मुक्तक « प्रशासन
Logo १७ मंसिर २०७८, शुक्रबार
   

मुक्तक


२१ श्रावण २०७४, शनिबार


न वार नपार मझधार भो जीन्दगी
सोचे भन्दा व्यग्लै आकार भो जीन्दगी

तिम्रो याद आउँदा शून्य लाग्छ जगत
जित खोज्दा खोज्दै हार भो जीन्दगी

Tags :
प्रतिक्रिया दिनुहोस