गजल « प्रशासन
Logo १२ माघ २०७८, बुधबार
   

गजल


२२ बैशाख २०७४, शुक्रबार


खवर के छन् नयाँ
रहर के छन् नयाँ

समय त उस्तै छ
प्रहर के छन् नयाँ

शीत तुसारो ज्वरो
कहर के छन् नयाँ

नाना थरी कुरै कुरा
जहर के छन् नयाँ

प्रतिक्रिया दिनुहोस