मुक्तक « प्रशासन
Logo २० मंसिर २०८०, बुधबार
   

मुक्तक


८ माघ २०७३, शनिबार


खोज्नी बोज्नी करे भल्मन्साक घर जुट्न माघ
भाई भाईनसे अलग हुईक लग घर फुट्न माघ

जबसे हुईलो तबसे घर अंगना भात भन्सा हेर्न
जवान छाईनके डाई बाबा जलम घर छुट्न माघ

Tags :
प्रतिक्रिया दिनुहोस